मंज़िल पे ध्यान हमने ज़रा भी अगर दिया's image
1 min read

मंज़िल पे ध्यान हमने ज़रा भी अगर दिया

Aalok ShrivastavAalok Shrivastav
0 Bookmarks 256 Reads0 Likes

मंज़िल पे ध्यान हमने ज़रा भी अगर दिया,
आकाश ने डगर को उजालों से भर दिया।

रुकने की भूल हार का कारण न बन सकी,
चलने की धुन ने राह को आसान कर दिया।

पीपल की छाँव बुझ गई, तालाब सड़ गए,
किसने ये मेरे गाँव पे एहसान कर दिया।

घर, खेत, गाय, बैल, रक़म अब कहाँ रहे,
जो कुछ था सब निकाल के फसलों में भर दिया।

मंडी ने लूट लीं जवाँ फसलें किसान की,
क़र्ज़े ने ख़ुदकुशी की तरफ़ ध्यान कर दिया।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts