जानता हूँ's image
Share0 Bookmarks 22 Reads1 Likes
गिरकर उठा हूँ,अब उठकर चलना जानता हूँ,
पर्वत सी उद्विग्नता से  निकलना जानता हूं ।
मैं नहीं दरख़्त वो, जो विमुख हवा के झोंके से 
कैसे सम्हलना है आंधियों से,हरवक्त जानता हूँ ।
निशदिन फैला रहा चंदन सी महक चहुँओर,
बाँस के कारण उठी दावानल जानता हूँ ।
चल पड़ा हूँ राहगीर बनकर पूण्य की राह पर
पाप के कारण घरों के मैं हश्र जानता हूँ ।
जिनमें नहीं आस्था ईश्वर के प्रति कोई
नेस्तनाबूद हो गए ऐसे नश्वर जानता हूँ ।
पुष्पों को बाँटने से भी हाथ सुगन्धित होते है
मैं कंई महकते ऐसे हाथों को जानता हूँ ।
लांग जाती है पहाड़ चींटी भी हौसला पाकर
पुनर्बलन की मैं वह ताक़त जानता हूँ ।
गिरकर उठा हूं , अब उठकर चलना जानता हूं,
पर्वत सी उद्विग्नता से  निकलना जानता हूं ।
✍️योगेंद्र सिंह राजावत 'गजधर'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts