दीया किसानों को's image
1 min read

दीया किसानों को

ydtripathi8822ydtripathi8822 June 16, 2020
Share0 Bookmarks 55 Reads0 Likes

प्रतिपल वह श्रम करता है,

कभी नहीं वह थकता है,

ग्रीष्म, शीत, वर्षा को सह,

चूते छप्पर के नीचे रह,

हालत उसकी पहचानो तो,

एक दीया किसानों को।


जीवन के झंझावातों को,

सह लेता है हो नीरव,

परती खेती का वक्ष चीर,

परहित करता है परमवीर,

उसकी व्यथा को जानो तो,

एक दीया किसानों को।


फटे-पुराने पहन वसन,

अभिलाषा का करके हनन,

सघन क्षेत्र हो या निर्जन,

ग्रीष्म, शरद हो या वर्षण,

काया करती जो स्वेद-त्याग,

मेघ गरजकर जाते भाग,

झुककर चुनता प्रति दानों को,

एक दीया किसानों को।


सुखी रोटी और चने चबा,

सार्वजनिक करता नहीं व्यथा,

करता रहता अनवरत श्रम,

चिंतित रहता है हरदम,

फसलों का करता है सींचन,

अच्छी खेती का कर चिंतन,

उसकी बातों को मानो तो,

एक दीया किसानों को।


-यमुना धर त्रिपाठी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts