क़त्लेआम's image
Share0 Bookmarks 30 Reads2 Likes

हर गली नुक्कड़ चौराहे पे
ये अब आम है
जिधर भी देखता हूँ मैं हर ओर
क़त्ल-ए-आम है।

कहीं सुबह है सहमी सी कही
डरी सी शाम है
इंसानियत को देते ये लोग न जाने
कौन सा पैगाम हैं।

कभी दबी कभी रुकी सी आज
सबकी जबान है
अब क्यों रोती हुई सी लगती ये
कौन सी अजान है।

मासूमियत को रौंदते वो कौन जो
कुर्बान हैं
गुनाहों को जीते हैं न कसते इनपे
कोई लगाम हैं।

हर गली नुक्कड़ चौराहे पे
ये अब आम है
जिधर भी देखता हूँ मैं हर ओर
क़त्ल-ए-आम है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts