राह जो तकने लगे हैं's image
Romantic PoetryPoetry1 min read

राह जो तकने लगे हैं

Vinit SinghVinit Singh May 1, 2022
Share0 Bookmarks 46 Reads0 Likes

हमारे नैन अब थकने लगे हैं

हम उनकी राह जो तकने लगे हैं


जवानी खत्म होती जा रही है

हमारे बाल अब पकने लगे हैं


इशक़ तो मानो लाइलाज ठहरा

दवा क्यों साथ फिर रखने लगे हैं


ये जग जब हो गया है बेस्वादी

नमक हम इश्क़ का चखने लगे हैं


सफ़र का अब यही अंजाम समझो

हमारे पैर अब थकने लगे हैं


दिलासा देकर उनके लौटने का

हम अपने आप को ठगने लगे हैं


हमें भी वो जरा बीमार हैं दिखते

दीवाने हम भी तो लगने लगे हैं


~विनीत सिंह

Vinit Singh Shayar / GHAZAL

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts