फ़नकार समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar's image
Love PoetryPoetry1 min read

फ़नकार समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar

Vinit SinghVinit Singh June 13, 2022
Share0 Bookmarks 465 Reads1 Likes

ख़ामोश ज़ुबाँ को सब बीमार समझते हैं

हरक़त ना करो तो सब दीवार समझते हैं


हम हैं कि साथ उनके चलना हैं उम्र भर और

वो हैं कि मोहब्बत को खिलवाड़ समझते हैं


उनके "ना" में भी समझता हूँ मैं सहमत

मेरी " हाँ" को भी जो इनकार समझते हैं


ख़ौफ का साया है इस तरह से छाया कि

उनके बेलन को भी हम तलवार समझते हैं


अपने दर्द को हमने कागज़ पे उतारा है

और आप हैं कि हमको फ़नकार समझते हैं


~विनीत सिंह शायर

VINIT SINGH SHAYAR


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts