दुनियाँ घूमी जाती हैं gazal by Vinit Singh Shayar's image
Love PoetryPoetry1 min read

दुनियाँ घूमी जाती हैं gazal by Vinit Singh Shayar

Vinit SinghVinit Singh February 15, 2022
Share0 Bookmarks 535 Reads0 Likes

आना नहीं था फिर क्यूँ यूँ ही आती है

कुछ तरह से भी वो प्यार जताती है


हम को देख के कमरे में वो चली गई

सामने फिर झुमके में वापस आती है


हमको मजनू बोल बोल के चिढ़ा रही है

ना जाने सखियों को क्या बताती है


रहते हैं खामोश वैसे तो महफ़िल में

वरना मेरी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है


ज़ालिम दुनियाँ वालों से छुप छुपकर

हर रात उनकी फोटो चूमी जाती है


सामने सबके हाथ पकड़ के चलती है

ना जाने इतना हिम्मत कैसे लाती है


उनसे मिलने जाए इतनी हिम्मत नहीं

सपनों में ही दुनियाँ घूमी जाती है


हम ने मैय्यत समझ के जो इग्नोर किया

सामने जब देखा तो वो बाराती है


~विनीत सिंह

Vinit Singh Shayar






No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts