समरसता's image
Share0 Bookmarks 20 Reads0 Likes

तुम भी उसीके,

हम भी उसीके,

दुखाओ न दिल , यहाँ पर किसीके....


न तुम पर कुछ होगा,

न हम पर कुछ होगा,

वही लेख लिखता, वही है अमोघा......


वहीं तुम जलोगे,

वहीं हम जलेंगे,

न अड़ना कहीं पर, कहीं तो मिलेंगे.....


वही तुम में माटी ,

वही हम हैं माटी,

न बिछड़ो तुम हमसे, न जायेगी काटी.....


                            --प्रेमी--

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts