विवाह की वर्षगाँठ's image
Romantic PoetryPoetry1 min read

विवाह की वर्षगाँठ

Vijay K MishraVijay K Mishra February 17, 2022
Share0 Bookmarks 33 Reads0 Likes
प्रेम है सरस, सरल और निश्छल                                            जीवन में उमंग भरे यह हर पल                                                            प्रेम जो है निर्विकार और निर्बन्ध                                      सात फ़ेरो के बन्धन में जाता है बन्ध l                                    अन्जान अपरिचित दो परस्पर मिले                                    खूबी-कमी को किया स्वीकार,ना रहे गिले                                     स्नेह-प्यार से सींचा घर- आंगन                                      किलकारियाँ गूँजी, खिले सजनी -साजन ll                             वक़्त बीता, पर हर लम्हा था मैं जुड़ा                                   जीवन पथ में कई मोड़ आये, साथ मुड़ा                            तुम मेरी हमनवां, मेरी प्रेयसी                                                       मेरी हमसफ़र तुम एक रूपसी l                                         वर्ष दर वर्ष प्रेम होता प्रगाढ़                                            वट वृक्ष की जड़ सी पड़ती जाती गाँठ                                           मुबारक हो तुम्हें विवाह की वर्षगाँठ                                       मुबारक हो तुम्हें विवाह की वर्षगाँठ l l   






No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts