Mujhe Tum Yaad Rahna/मुझे तुम याद रहना's image
Poetry1 min read

Mujhe Tum Yaad Rahna/मुझे तुम याद रहना

Vaishali (Gangotri)Vaishali (Gangotri) December 16, 2021
Share0 Bookmarks 247 Reads1 Likes

कभी ये सोचती हूँ

कि ये यादें तुम्हारी

बहुत तड़पाएंगी,

अश्क दे जाएंगी |

मगर ये चाहती हूँ

चाहे गम ही मिले पर

मुझे तुम याद रहना |

चाहे आँखें ये भर आयें,

चाहे दिल फूट कर रोये,

तुझे मिलने की उम्मीदें

मेरे दिल से नहीं खोयें |

मेरे दिल में बनेगा

यादों का एक घर,

वहीं आबाद रहना,

मुझे तुम याद रहना |

कभी फ़ुर्सतमिले तुमको 

तो थोड़ा याद कर लेना |

मगर तुम भी मेरे जैसे

आँखों को न भर लेना |

तकलीफ़ों से यादों की

तुम तो आज़ाद रहना | 

मुझे तुम याद रहना…



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts