चरैवेति चरैवेति का संदेश's image
Kumar VishwasPoetry1 min read

चरैवेति चरैवेति का संदेश

Umesh ShuklaUmesh Shukla December 1, 2022
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes

तदवीर से ही फिर गढ़ी जा

सकती किस्मत की लकीरें

किताबों में कर्म के महत्व पे

दर्ज हैं महापुरुषों की तकरीरें

कर्मवीर सदा पलटते रहे हैं

समूची दुनिया का इतिहास

उनके कर्म में परिलक्षित हुआ

एकनिष्ठ निरंतरता का अभ्यास

कुरुक्षेत्र में अर्जुन को निष्काम

कर्म का कृष्ण दे गए उपदेश

साथ ही बता गए कर्म गति

से मिलने वाले फल विशेष

चरैवेति चरैवेति का संदेश

युगों से देते रहे हमें पुराण

फिर भी हम अन्यत्र खोजते

रहे किस्मत के द्वार तमाम

लक्ष्य तय करके जो कोई भी

करता निरंतर ठीक से कर्म

सफलता उसका वरण कर

निभाती अपना सच्चा धर्म

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts