राज़'s image
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
तेरी आंखों में समंदर है क्या,
मै डूबता जा रहा हूं,

तेरे जिस्म में चुंबक है क्या,
मैं चिपकता जा रहा हूं ,

बता क्या राज है तुझमें ,
मैं उलझता जा रहा हूं ,

मैंने इश्क तो बेहिसाब किया था,
पर पता नहीं क्यों ? फिर भी फिसलता जा रहा हूं...

'उरमलिया' उज्ज्वल ✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts