जान-पहचान's image
Share0 Bookmarks 49 Reads2 Likes

दुनियां में कभी खुद को अकेले न समझना।

नीचे जमीन, सर पे आसमान बहुत है।।

...

जलने का, जलाने का चलन बहुत हो चुका।

हंसने का, हंसाने का भी, सामान बहुत है।।

...

कैसे मैं हाथ छोड़ दूं , तकलीफ-ए-वक्त में।

उस शख्स का मुझ पर भी तो एहसान बहुत है।।

...

आता नहीं है कोई कहीं अपना सा नजर।

कहने को तो, इस दुनियां में इन्सान बहुत है।।

...

चेहरे दिखाई दे रहे सब आज अजनबी।

वैसे तो यहां अपनी भी, पहचान बहुत है।।

...

बाहर से खुश दिखाई देना सिर्फ छलावा।

अन्दर से तो हर शख्स परेशान बहुत है।।

...

लकड़ी के चौखटे की इस तस्वीर की तरह।

अपनो में अपनी आन,बान,शान बहुत है।।

...

सुर ताल में, नगमों के मेरे जान हो न हो।

नगमों के हर इक लफ्ज में पर जान बहुत है।।





























































No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts