दिसम्बर's image
Share0 Bookmarks 29 Reads0 Likes



तहवील-ए-इंतिज़ार है हर शाम की तरह 

ये साल भी गुज़र गया हर साल की तरह

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts