गिन्नी की मौत's image
2 min read

गिन्नी की मौत

Sylvester BrittoSylvester Britto June 16, 2020
Share0 Bookmarks 118 Reads0 Likes

घर के कोने में बैठी एक गृहिणी कर रही थी

अपने जीवन में सुख के आने का इंतज़ार I

क्योंकि कोई नहीं करता था उसकी कद्र,

इसलिए उसने भी उम्मीद छोड़ दी थी इस बार I I (1)

पति था अपनी अय्याशियों में पूरी तरह लिप्त,

बच्चे थे अपनी पढाई को लेकर मग्न I

वो रह जाती थी अपनी घर-गृहस्थी में तन्हा,

ऊपरवाले ने किया उसके जीवन में उसके छोटे भाई को संलग्न I I (2)

एक रोज़ उस संलग्नित को भी जाना पड़ा उससे दूर,

क्योंकि था सवाल उन दोनों की सबसे छोटी बहन गिन्नी की ज़िन्दगी का I

कर्करोग से पीड़ित हो चुकी थी वो,

उस समय कोई रामबाण इलाज भी नहीं था इस बीमारी का I I (3)

गृहिणी ने पूछी अपने भाई से रवानगी की वजह,

वो निकल पड़ा एक सफ़ेद झूठ बोलकर I

कि उसको आ पड़ा है बहुत ज़रूरी काम,

ताकि उसकी बहन चिंतन मनन में न रहें दिन भर I I (4)

अस्पताल जाते समय गिन्नी दर्द में कराहती रही,

वो बस दीदी-दीदी बोलती रह गई I

यही थे उसके आखिरी बोल,

उसकी आखिरी ख्वाहिश भी अधूरी रह गई I I (5)

जब हुआ था गिन्नी का पार्थिव शरीर गाँव में दाखिल,

उस वक़्त मानो दौड़ गई थी एक लहर I

रोगी वाहन के पीछे एक काफिला चला आ रहा था लोगों का,

यह था उसके प्रति गांववालों के प्यार का कहर I I (6)

रोगी वाहन के गंतव्य पर पहुँचते ही,

गिन्नी का अंतिम संस्कार हुआ निभाकर सारी रस्म I

गृहिणी को भी चिट्ठी भेजी गई जिसे पढ़कर,

बिखर गई उसकी ज़िन्दगी और ख़त्म हुई यह नज़्म I I (7)















No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts