Pita - पिता - hindi kavita - Sumit Arya - सुमित आर्य's image
Love PoetryPoetry1 min read

Pita - पिता - hindi kavita - Sumit Arya - सुमित आर्य

Sumit AryaSumit Arya January 10, 2023
Share0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

*पिता*




माँ ने दुनिया में लाया बेसक,

पर दुनिया घुमाया हमे पिता हैं।


माँ ने लोरी गाके हमें

सुलाया है भले रातों में

नये सवेरा - नया विहान

दिखाया हमे पिता हैं।





इस सुंदर दुनिया में बेसक

माँ ने हमें लाया है।

पर सुंदर पर्दे के पीछे चीपे छलीया से –

परिचय कराया हमें पिता है।

दुनिया दिखाया हमें पिता हैं।





माँ ने हमे सजाया,

वस्त्र सुंदर हमें पहनाया है।

पर क्या पता तुम्हे ?

मेरे सुंदर वस्त्रों के लिए

फटा- पुराना पहना हमारे लिए

हमारे पिता हैं।





माँ पौधा, हम फूल

माँ ने हमे खिलाया है।

पर, इस बगीचे का 'माली पिता'

खुन देकर इस बाग को

सीचा पिता हैं


ओ पिता तुझे शत बार नमन

हम पर उपकार बड़ा किया। ।।


:- सुमित आर्य (pen name)



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts