यादें बचपन की's image
Poetry1 min read

यादें बचपन की

Sujata BhardwajSujata Bhardwaj May 20, 2022
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes
खूबसूरत लम्हें वो यादों की,
खट्टी-मीठी सी सैतानी भरे वादों की।
वो मुस्कुराना भी गज़ब का था मासुमियत भरे निगाहों की।

नज़रों से कुछ छुपे न ,और लबों पर कुछ रुके न।
कितनी प्यारी-सी दुनिया वो यारों की,
वो खुबसूरत लम्हे यादों की।

यारी में सबसे लड़ जाना, और यारों की बुराई न सह पाना।
सच्ची यारी वो प्यारों की,
वो खुबसूरत लम्हे यादों की।

तितली-सी चंंचल अदायें ,कातिलाना वो शर्मिला-पन
चांद की शितलता बातों में,
सूरज-सा तेज आंखों में।
और हसीन सपने उन निगाहों की,
वो खूबसूरत लम्हें यादों की....।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts