तनहा सफर's image
Share0 Bookmarks 38 Reads0 Likes
 किसी की ख्वाहिशें मार देर से निकल कर,
तनहा रहा महताब फिर सारी रात सफ़र पर।

*महताब :- चाँद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts