दर-बदर's image
Share0 Bookmarks 93 Reads1 Likes

दर-बदर सी है जिंदगी

कभी यहां तो कभी वहां

कभी खुद की तलाश करती है

कभी गैरों में खुद को ढूंढती है

चाहती है ये क्या

खुद नहीं समझती है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts