बहुत कुछ पीछे छूट जाता है's image
Poetry2 min read

बहुत कुछ पीछे छूट जाता है

शैलेंद्र शुक्ला " हलदौना"शैलेंद्र शुक्ला " हलदौना" June 21, 2022
Share0 Bookmarks 576 Reads1 Likes
जीवन तो अभावों में भी पल जाता है 
पर हां बहुत कुछ पीछे छूट जाता हैll
कुछ सपने जिनकी उम्र तय होती है
कुछ बातें जिनकी समय सीमा होती है 
खिलौने जिनसे हम दूर रह जाते हैं 
बचपना जिसे हम कहीं  छुपा लेते हैं 
जीवन तो अभावों में भी पल जाता है 
पर हां बहुत कुछ पीछे छूट जाता हैll
गुड्डों गुड़ियों के खेल  हवा हो जाते हैं 
हंसने खेलने वाले दिन खफा हो जाते हैं
दादी नानी की कहानियों से दूर हो जाते हैं 
हाथ ना जाने कब जिम्मेदार हो जाते हैं
जीवन तो अभावों में भी पल जाता है 
पर हां बहुत कुछ पीछे छूट जाता हैll
हर बात से ना जाने क्यों डर से जाते हैं
दुनिया से अलग थलग  कट से जाते  हैं 
कोई हमसे कुछ पूछ ना ले घबराते हैं 
अपने आपको सबकी नजरों से छिपाते हैं 
जीवन तो अभावों में भी पल जाता है 
पर हां बहुत कुछ पीछे छूट जाता हैll
परिवार की जिम्मेदारियों को ओढ़ लेते  हैं 
मां की लोरियों को कहीं पीछे छोड़ देते हैं 
होते नही हैं बड़े लेकिन बना दिए जाते हैं 
खेलने की उम्र में हल मैं नह दिए जाते हैं
जीवन तो अभावों में भी पल जाता है 
पर हां बहुत कुछ पीछे छूट जाता हैll
शैलेंद्र शुक्ला "हलदौना"
ग्रेटर नोएडा (उoप्रo








No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts