30 जनवरी's image
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

कमज़ोर सा जिस्म था 

शायद एक गोली से भी खत्म हो सकता था

हो सकता है गोली भी ना चलानी पड़ती

कुछ दिन में अपने आप ही मर जाता

जिस्म ही तो था

तीन गोलियां बर्बाद कर दी

और वो मरा भी नहीं

जिसका मरना मकसूद था

वो तो खुशबू सा हवा में बिखर गया

हज़ारों गोलियां आज भी मारी जाती है

हज़ारों बार जलाया जाता है

फांसी पर भी बेहिसाब बार लटकाया जाता है

सलीबों पर ठोका जाता है

कांच पीस कर पिलाया जाता है

चौराहों पर

सभाओं में

संसद में भी

किताबो और रिसालों में

पर वो मरता नहीं है

हर बार

किसी कस्बे के छोटे स्कूल में

बच्चो के फैंसी ड्रेस में

कोई कमज़ोर सा लड़का

हाथ में लकड़ी और कमर पर धोती बांध

हज़ारों जेहनों में गांधी खड़े कर देता है 


सत्यप्रकाश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts