हम-तुम और ज़माना's image
Poetry1 min read

हम-तुम और ज़माना

SANTOSH KUMAR MISHRASANTOSH KUMAR MISHRA June 15, 2022
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes
लगी है आग अगर दिलों में कहीं ,
तो देखना, जल्दी ही शहर 'जलने' लगेगा।
हम-तुम मानें या न मानें,
किस्सा ये हर तरफ चलने लगेगा।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts