बलात्कार (एक घिनोना अपराध)'s image
Poetry2 min read

बलात्कार (एक घिनोना अपराध)

Sangeeta tiwariSangeeta tiwari July 12, 2022
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes
दोषी नहीं निर्दोष है वह,।                                              सजा यह कैसी उसने पाई।।                                        विकार नहीं किया  उसने ,।                                         फिर क्यों गई वह सताई।।                                         रहा मुद्दा नहीं एक का,।                                            अनेकों है पीड़ित यहां नारी।।                                     समान्य रही नहीं अब बात,।                                       बन रही गंभीर समस्या भारी।।                                     आंकड़े होने लगे हैं पार,।                                            बढ़ने लगी है यहां दरिंदगी                                        निर्दयी कुकर्मी मनुष्य समाज में,।                                  फैला रहा है अधिक गंदगी।।                                      होकर बेखौफ दरिंदा वह,।                                          मासूमियत से जाता खेल।।                                        सुविधाजनक इस देश में अपने,।                                घिनौना अपराध रही वह झेल।।                                  समाज प्रश्न उठाता उस पर,।                                        हो रही वह दुख में चूर।।                                            विनम्र सी उसकी विनंती,।                                         क्यों करता नहीं कोई मंजूर??                                      समाज की फटकार के भय से,।                                   आत्मदाह सा कदम उठाती।।                                    मुख्य कारण यही बना जो,।                                        पनाह अपराधी को मिल जाती।।                                 तनिक लज्जा किए बिना वह,।                                     शिकार ढूंढने लगता आवारा।।                                    घिनौनी मानसिकता का प्राणी,।                                    करने लगता फिर यही दोबारा।।                                 घिनौना सा यह अपराध,।                                          समाज में अपने जाएगा थम।।                                     कहो पीड़िता को देकर सहारा,।                                   अकेली नहीं तु, साथ हैं हम।।                                      छोड़ नहीं तुम उसको देना,।                                      दिलाकर झूठा यह आश्वासन।।                                     इंसाफ हेतु गुहार लगाई खड़ी,।                                   बनेगा सहायक समाज व प्रशासन।।                             देश में प्रचलित यह अपराध,।                                      पाबंदी नहीं अगर यहां लगेगी।।                                  मैं तो क्या यहां कोई नारी,।                                        सुरक्षित अनुभूत नहीं करेंगी।।                                   समाज में बेखौफ दरिंदों को ,।                                     जीवित रहने का  नहीं हक                                          माना बारी  आज दूजे की,।                                        हम तुम होंगे कल बेशक।।                                        किए हुए गुनाहों पर ये।                                               तनिक नहीं होते शर्मिंदा ।।                                         कंठ में ऐसे पापियों के,                                             डाल दो फांसी का फंदा।।                                            होगा कानून अवश्य सहायक,।                                    जो एकत्रित हम हो जाएंगे ।।                                     एकता में होती ताकत,।                                              उसे मिलकर इंसाफ दिलाएंगे।।                                  कानून से विनम्र गुजारिश मेरी,।                                  इस मुद्दे पर अमल करो।।                                          कर सख्त कार्यवाही यहां ,।                                       ऐसे दरिंदों को खत्म करो।।  

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts