अविरत, अनमोल हैं आप's image
Poetry1 min read

अविरत, अनमोल हैं आप

सम्रिता®सम्रिता® May 23, 2022
Share0 Bookmarks 92 Reads2 Likes

अविरत हलचल हैं आप।
सागर की गहराई से उभर कर,
आसमान छूने का जज़्बा हैं आप।

अविरत ज़िन्दगी जीने की कला हैं आप।
हर आँधी-तूफ़ान से लड़ती, 
ना झुकती, ना टूटती चट्टान हैं आप।

अविरत कुछ सीखने की उमंग हैं आप।
जल की भांति हर रंग और रूप में,
ढलने की अतुलनीय क्षमता हैं आप।

अविरत एक आदर्श मिसाल हैं आप।
अनुभव के तेज से चमकती मूरत आपकी।
अमिताभ जी भारत का गौरव, अनमोल हैं आप।

~सम्रिता©

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts