मकड़जाल's image
Share0 Bookmarks 178 Reads0 Likes

गली-गली हैं बिकने वाले 

चाहे जैसा दाम लगा ले 

उलझे-उलझे झूठ के जाले

मकड़जाल में सच उलझा ले 

प्यार मुहब्बत एक धरम है 

एक तरफ हैं नफ़रत वाले

अब कोई सुकरात नहीं है 

कौन पियेगा ज़हर के प्याले


- साहिल

Twitter: @Saahil_77




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts