सच का आइना's image
Share0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

सच का आइना दिखाया जब

हर चेहरा झूठा लगने लगा

मुखौटा उतर गया हो जैसे

बदरंग चेहरा लगने लगा ।

हर चेहरे पर चेहरा लगाए

अपने वफादारी का दम भरते हैं लोग

वक्त के बदलाव पर

भीड़ में गुम हो जाते हैं लोग ।

जब तक खुद का स्वार्थ है

हर इंसान आपका मित्र है

जब आपका हाथ फैला किसी से

मित्रता चलचित्र है ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts