नदी का किनारा's image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

जीवन एक नदिया है,

सुख दुख दो किनारा है,

दोनों जीवन के दो पाट,

बहती निर्मल जलधारा है ।

जब तक बहती जलधारा,

कोई कैसे अलग करे ,

सुख दुख के दो पाटों का संगम,

जीवन अमृत रसधारा है ।

जीवन एक नदिया है,

सुख दुख दो किनारा है ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts