घात's image
Share0 Bookmarks 41 Reads0 Likes

घात लगाये बैठा है

शिकार के तलाश में,

आंखे गडी हुई हैं अपने

आहार के आस में ।

हर निर्बल सबल का शिकार

मात्र है,

अपने बल का इस्तेमाल

मात्र है ।

कुदरत की इनायत है

जिसमें घात की सियासत,

इंसान हो या जानवर

सबमें घात की विरासत ।।

Posted by

Sahdeosingh

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts