तेरे लिए ❤'s image
Share1 Bookmarks 84 Reads1 Likes
इक महज़ उसकी, इबादत को... 
छाप दी हमने, अपनी इबारत को... 
उसकी बे-मुरव्वती का, आलम तो देखो यारों... 
आज तक पढ़ा नहीं उसने, हमारी लिखावट को..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts