वक्त के हाथों सबकी डोर's image
Poetry1 min read

वक्त के हाथों सबकी डोर

Roopali TrehanRoopali Trehan June 30, 2022
Share0 Bookmarks 7 Reads1 Likes

वक्त है तेज़

वक्त धारदार

वक्त ही करता

सबका संहार


वक्त बलशाली

वक्त प्रचंड

वक्त ही देता

सबको दंड


वक्त बेदिल

वक्त बेरहम

वक्त न करता

किसी पर रहम 


वक्त निर्मोही

वक्त कठोर

वक्त के हाथों

सबकी डोर 

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts