कभी कभी यूं भी's image
Poetry1 min read

कभी कभी यूं भी

Roopali TrehanRoopali Trehan October 28, 2021
Share0 Bookmarks 7 Reads0 Likes

कुछ खुशनुमा सी उम्मीदें 

कभी कभी यूं 

भी चली आती हैं

जैसे बुझते हुए दीपक की 

लौ जगमगा उठती है


कुछ ज़िंदादिल सी ख्वाहिशें

कभी कभी यूं 

भी मचल उठती हैं

जैसे बरखा की फुहार पाकर

बंजर ज़मीन महक उठती है


कुछ बेपरवाह सी आदतें

कभी कभी यूं 

भी चहक उठती हैं

जैसे सूने पड़े चेहरे पर

मुस्कुराहटें चमक उठती हैं

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts