भागिए न इस क़दर's image
Poetry1 min read

भागिए न इस क़दर

Roopali TrehanRoopali Trehan April 14, 2022
Share0 Bookmarks 25 Reads1 Likes

भागिए न इस क़दर

साथ कुछ न जायेगा

कर रहे जो इकट्ठा

सब यहीं रह जायेगा


मरिए ना रोज़ तिल तिल

पेट इच्छाओं का

कभी भर न पायेगा

बीत गया जो वक्त

तो हाथ फिर न आयेगा


जी लीजिए ज़िंदगी ज़रा सी

ये मौका फ़िर न आयेगा

ख्वाहिशों के पीछे

भागते भागते

एलान अंत का हो जायेगा

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts