दुर्गा स्तवन  [ Durga Stavan]'s image
Poetry2 min read

दुर्गा स्तवन [ Durga Stavan]

rmalhotrarmalhotra October 9, 2021
Share0 Bookmarks 151 Reads1 Likes

II अभिवंदना।I


महिषासुर मर्दिनी कालरात्रि दुर्गा अनन्या

आवाहन तेरा आज मिलकर हम सब करें

हे शैलपुत्री ब्रह्मचारिणी चामुण्डा हो तुम

पुष्प श्रद्धा के चरणों में तेरे अर्पित हम करें


हे करूणामयी वरदायनी अम्बालिका हो तुम

तुम्हारी अनंत कृपा सृष्टि पर सदा बनी रहे

ज्ञान और विद्या से आलोकित हो मस्तिष्क

सशक्त हों भुजाएँ विजय मन को अपने करें


हे चंद्रघंटा, माँ कूष्मांडा पूजन अभिवंदन तेरा

अखण्ड ज्योति की उज्जवल लौ से हम करें

दूर हों विपदा सारी कल्याण सबका तुम करो

सुख शान्ति स्वास्थ्य अन्न धन सबको मिले


हे सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री यशस्विनी स्कंदमाता

कमल के श्वेत फूलों से हम स्तवन अर्चन तेरा करें

कात्यायनी हम को शक्ति और हिम्मत प्रदान करो

ज़ात, पात, भय और भेदभाव दूर हम विश्व से करें


हे महागौरी भव्य प्रतिमा तुम्हारी प्रति माँ में सबको दिखे

पुष्पांजलि संग नमन मंत्रोचारण हम मधुर वाणी से करें

अष्टसिद्धि नव निधि की दात्री सार्थक जीवन सबका करो

आलोकित और उत्साहित हो मन कर्म हम सब शुभम् करें


हे कमलारानी सिद्धिदात्री सारा जहाँ है तुम्हारे श्री चरणों में

मनोकामना पूरी हो उसकी जो श्रद्धा से आए तुम्हारी शरण में

दर्शन से तुम्हारे निखरे मन दमक उठे हृदयांचल गरिमा से

अर्पित करें सर्वस्व अपना चढ़ाएँ श्रद्धा सुमन तुम्हारे चरणों में


राकेश की कलम से 

Twitter @RakeshMalhotra

Instagram Rakesh.malhotra

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts