एक चिट्ठी सेंटा के लिए's image
OtherArticle2 min read

एक चिट्ठी सेंटा के लिए

Raksha PandyaRaksha Pandya December 26, 2021
Share0 Bookmarks 58 Reads0 Likes
प्यारे सेंटा,
आज मैं तुमसे कुछ लेना नहीं बल्कि तुम्हें कुछ देना चाहती हूँ। शब्दों के गुलदस्ते से सजा एक छोटा-सा उपहार देना चाहती हूँ। तुम भी तो काफी थक गए होंगे ना, सभी के बीच खुशियां बांटते-बांटते। बस, अब थोड़ा बैठो-सुस्ताओ, और भेंट में मिले अपनी तारीफ के ये कुछ शब्द अपने झोले में ले जाओ।
पता है सेंटा, मुझे तुम्हारा 'सुंदर-सा सफेद दाढ़ी-मूंछों वाला चेहरा, लाल कपड़े पहने तुम और कंधे पर टंगा तुम्हारा बड़ा-सा वो थैला' काफी पसन्द आता है। ज़िंगल बेल गाते, हो-हो करते तुम बड़े ही अच्छे लगते हो मुझे। बच्चे तो केवल तुम्हारी कल्पना से ही खुशी से झूम उठते हैं। उनके लिए तो क्रिसमस का मतलब ही तुम हो सेंटा। 
आखरी में बस इतना ही कहूँगी, तुम चाहे जिस भी रूप में रहो, तुम्हारे झोले में तोहफे हो या न हो। मेरे लिए तो केवल तुम्हारी मौजूदगी ही खुशी की बात है। 
बहुत सारा प्यार सेंटा!

तुम्हारी काफी बड़ी बच्ची
रक्षा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts