या कुछ बात ही न थी's image
Love PoetryPoetry1 min read

या कुछ बात ही न थी

ShivamShivam December 27, 2022
Share1 Bookmarks 81 Reads1 Likes

'तुमने कुछ बात न की,

या कुछ बात ही न थी ।

मैं रुका था तुम्हारे लिए,

आखिर लड़ाई जैसी तो कुछ बात ही न थी ।

चलो आज इस बात को यहीं खत्म करते हैं

क्योंकि तुमसे आगे बात हो ऐसी तुममे बात ही नहीं

जात-पात घरवाले अगर आने ही थे तो शुरूआत में आते,

वही बहाना तुमने आखिरी में दिया

क्या सच में यही बात थी

या कुछ बात ही न थी । "


"शिवम"

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts