घर कर रही है तेज़ कुंठित सोच लोगों में's image
Poetry1 min read

घर कर रही है तेज़ कुंठित सोच लोगों में

Rajesh YadavRajesh Yadav December 31, 2022
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes
बढ़ रही दुश्मनी हर रोज लोगों में,
जाति पाति धर्म की है खोज लोगों में,
मानवता अब गुमनाम हो रही हर दिन,
घर कर रही है तेज़ कुंठित सोच लोगों में,

शुरू है धर्म पर लड़ना अभी तो जात बाकी है,
वर्ग और पंथ से करना दो दो हाथ बाकी है,
सहनशीलता घट रही औ बढ़ रहा है रोष लोगों में,
घर कर रही है तेज़ कुंठित सोच लोगों में,

शिक्षा और शिक्षक की स्थिति सब जानते ही हैं ,
असर होना नहीं अब किसी को कुछ भी कहने से,
रत्ती भर भी अब बचा नहीं संतोष लोगों में,
घर कर रही है तेज़ कुंठित सोच लोगों में,

~ Rajesh Kashivasi

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts