दर्द जब हद से भी पार हो जायेगा's image
MotivationalPoetry2 min read

दर्द जब हद से भी पार हो जायेगा

Rajat Rohit RajputRajat Rohit Rajput May 20, 2022
Share0 Bookmarks 21 Reads1 Likes

मोह मत कर पक्षी इन तिनकों के घोंसलों का

तेज हवा आएगी तो सपनों का घर भी टूट जायेगा

ये जो मेरा, प्यारा, हमारा किया करते हो

वक्त पड़ने पर इनका सहारा भी छूट जायेगा

फिर तुम्हें अपनी बातों को सबसे छिपाना होगा

जो लोग तुमसे सुनना चाहें उन झूठी बातों को बताना होगा

ये जो बहाने दे देते हो खुद को

इन बहानों को आपने मन से मिटाना होगा

दर्द जब तुम्हारी हद से गुजर जाएगा

आंसुओं का समंदर आंखों से बिखर जायेगा

आंसुओं की धारा को खुद से भी छिपाना होगा

तुझे तेरी कहानी का हर किरदार निभाना होगा

वक्त की तेज धार से खुद को बचाना होगा

फिर कोई न सुनेगा तेरी सब खुद को ही सुनना होगा

गौर से सोच मेरे राही , कहीं ये किरदार तेरा न हो जाए

इस काल्पनिक कविता में तेरा सच में बसेरा न हो जाए

तुझे जिंदगी की वास्तविकता को समझना होगा

तुझे हर कार्य की प्राथमिकता को समझना होगाजो करने की सोची है तूने वो सच में करके दिखाना होगा

तू क्या है उसे सिर्फ बातों से नहीं वास्तविकता से बताना होगा

जो किरदार चुना है तूने वो अच्छे से निभाकर दिखाना हो

शोर तेरी बातों का तेरे अल्फाजों से नहीं लोगों की बातों से करके दिखाना होगा


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts