ओस की बूंद's image
Share0 Bookmarks 13 Reads0 Likes

दूब की नोक पर

ओस की बूंद थी 

जो इधर से उधर 

कांपती, डोलती 

झूलती, झूमती 

मुस्कराती रही । 


भोर होने को थी 

स्धच्छ आकाश की 

लालिमा बढ़ चली 

फिर किरण सूर्य की 

बूंद पर आ पड़ी 

श्वेत मोती बनी 

झिलमिलाती रही । 


धीरे धीरे उसे 

सात र॔ग भी मिले 

रूप गर्वित हुई 

किन्तु ये क्या हुआ!

धूप के ताप सै 

वाष्प बन उड़ गई /बूंद की ये कथा क्यों अधूरी रही!












No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts