वो मिलने चल पड़े हैं's image
Poetry1 min read

वो मिलने चल पड़े हैं

R N ShuklaR N Shukla September 9, 2021
Share0 Bookmarks 152 Reads3 Likes

दुनिया करवटें बदल रही है

धरती गगन से मिल रही है।

चंद्रकिरणें जलपरी-सी,

चल पड़ीं सागर से मिलने 

देख!यह अद्भुत नजारा

मन भी सागर का यूँ, 

मचलने लगा है

बादलों की ओट ले, 

मिलने चला है...

कौन है जो–

रोक सकता है इन्हें

जब उमंगें 

भर उठीं हैं नेह की

रुक नहीं सकते कभी

ये रोकने से

अब, जो मिलने– 

चल पड़े तो चल पड़े हैं...



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts