तुम कब आओगे !'s image
Poetry1 min read

तुम कब आओगे !

R N ShuklaR N Shukla October 30, 2022
Share0 Bookmarks 114 Reads0 Likes
इक खामोश - सी  नज़र ! 
दीये की टिम-टिमाती लौ 
जैसा है मद्धम जलता बल्ब !
घर  , आँगन , दीवारें  खपरैल !
सब कुछ  हैं  –  खामोश !
चुपचाप ! प्रतीक्षारत मन !
किसी पदचाप की आहट पर 
दौड़ जाते पैर , दरवाजे की ओर
किवाड़ की ओट लिए –
तिरछे नयनों में भरी है –कितनी चुप्पी !
दरवाज़े पे पसरा सन्नाटा ! और –
दिल में सँजोये अरमानों का ज्वारभाटा !
आज दीवाली  , तुम कब आओगे ?
#KaviWali

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts