राष्ट्र-द्रोहियों के प्रति सन्देश's image
Poetry1 min read

राष्ट्र-द्रोहियों के प्रति सन्देश

R N ShuklaR N Shukla August 24, 2021
Share0 Bookmarks 82 Reads0 Likes

देश की सब्सिडी पर पलते-पढ़ते हो

फिर भी अनर्गल प्रलाप करते हो?

कुत्ते भी नमक का फर्ज़ अदा करते हैं

तुम भला किस कालेज में–

पढ़े हो और पढ़ते हो?

अब भी समय है मान जावो तुम

देश की मुख्य धारा में आजावो तुम

कहीं बेआबरू न हो जावो तुम

क्यों नहीं सुधरते हो?

क्यों इतना जहर उगलते हो?

क्यों इधर-उधर की बात करते हो?

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts