पैसा सबकुछ नहीं's image
Poetry1 min read

पैसा सबकुछ नहीं

R N ShuklaR N Shukla May 8, 2022
Share0 Bookmarks 107 Reads0 Likes
१– हया ,  हयादार को होता है । 
     माना , पैसा बहुत कुछ है पर ,
     सबकुछ तो नहीं ?

२– पैसे के पीछे मत भागो !
      ऊँचे रसूख़ वालों का
      ज़रा तुम हश्र  देखो –कि–
      घरों में धन दबाए बैठे हैं !
      
      

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts