कौन मरना चाहता है ?'s image
Poetry1 min read

कौन मरना चाहता है ?

R N ShuklaR N Shukla September 4, 2022
Share0 Bookmarks 244 Reads0 Likes
उम्र को तू आँकता है ?
बता तो –
कौन मरना चाहता है ?

उम्र का  आलम  भी क्या है 
जीने  की तमन्ना  बढ़ रही है
अतियों से  बचना  चाहते हैं
अतियाँ ही बढ़ती जा रही हैं

उम्र के ढालान पर -
बढ़ते कदम क्यूँ काँपते हैं ?
मौत आने का पता , 
क्या यही हम भाँपते हैं ?

परिचय बढाना चाहता हूँ
मौत से !
मौत की भी अहमियत
कुछ कम नहीं है जिंदगी में !

मौत ग़र ना आये इस जिंदगी में
पैर रखने की जगह भी ना मिले
इस ज़मी पे !
दुश्मनी ही दुश्मनी तब फैल जाए
ना कोई भी किसी के काम आए

जिंदगी और मौत में क्या फासले हैं ?
ध्यान से देखो तो 
सिर्फ आंकड़े ही आंकड़े हैं !
प्यार में बस फासले हैं !
जो कभी भी कम नहीं होते !







No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts