हँस के जीयो !'s image
Poetry1 min read

हँस के जीयो !

R N ShuklaR N Shukla October 12, 2022
Share0 Bookmarks 100 Reads0 Likes
तन्हाईयों में –

रहना सीख लिया है मैंने !

ऐ जिंदगी ! डरा मत मुझे !

तुम्हें   हँस  के  जीना –

सीख  लिया  है  मैंने !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts