अहम् ब्रह्मास्मि's image
2 min read

अहम् ब्रह्मास्मि

priyanka singhpriyanka singh June 16, 2020
Share0 Bookmarks 279 Reads0 Likes

हर एक यथा सन्दर्भ में, मैं स्वयं का अंतर्द्वंद हूँ |

अपने ही छंद में बंद मैं, स्वयं-कहा स्वच्छंद हूँ||


गद्य में मैं, पद्य में मैं,हर कथा का सार हूँ |

मैं ही मैं से न मिली, तो मैं ही अपनी हार हूँ ||


प्रेम पथ की जीत मैं, तो द्वेष का मैं दंड हूँ |

अपने ही छंद में बंद मैं, स्वयं-कहा स्वच्छंद हूँ ||


परम्परा का प्राण मैं, नयी रीत का प्रारम्भ हूँ |

वेदना की करुण व्यथा, मैं नए गीत का आरम्भ हूँ ||


शनैः शनैः जो रस घुले, उस पुष्प का मकरंद हूँ |

अपने ही छंद में बंद मैं, स्वयं-कहा स्वच्छंद हूँ ||


छद्म-आडम्बर लिप्त मैं, और सत्य का सत्कार भी |

माया मोह युक्त मैं, और निर्विकार विचार भी ||


शिव का रौद्र रूप मैं, वीभत्स हूँ प्रचंड हूँ |

अपने ही छंद में बंद मैं, स्वयं-कहा स्वच्छंद हूँ ||


साथ और सहयोग मध्य, छिपा हुआ मैं स्वार्थ हूँ |

अर्थ और परमार्थ मध्य, अमिट खड़ा यथार्थ हूँ ||


व्यथित हूँ, द्रवित हूँ , निश्छल आनंद हूँ |

अपने ही छंद में बंद मैं, स्वयं-कहा स्वच्छंद हूँ ||


उस तरु की डाल मैं, जो स्वयं फल से झुका |

भीष्म की वो स्वांस मैं, वक़्त जो बांधे रखा ||


कृष्ण का उपदेश मैं,और अर्जुन का द्वन्द हूँ |

अपने ही छंद में बंद मैं, स्वयं-कहा स्वच्छंद हूँ ||


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts