ख़ल्वत's image
Share0 Bookmarks 28 Reads1 Likes

कभी फ़ुर्सत हुई उनको, तो कोई बात होगी फ़िर,

फ़िर से याद आई तो, उन्हीं की याद आनी है।

मेरी ख़ल्वत को देखा तो, वो कुछ बुदबुदाए यूँ

महफ़िल सजाए रखना, इसकी आदत पुरानी है।।

~विचार_प्रत्यक्ष




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts