ख़ुमारी's image
Share0 Bookmarks 49 Reads0 Likes

दिन भर इक ख़ुमारी सी लगती है,

कमरे मे कोई छवि तुम्हारी सी लगती है;

ऐसा नशा तो मयखानों में भी नहीं मिलता,

हालत अपनी किसी नफ़सियाती बीमारी सी लगती है।


कौन जीना चाहता है तन्हा इस दौर मे,

ज़िंदगी की सरपट इस भाग-दौड़ में;

मै बस रह जाऊंगा तन्हा और पीछे भी,

यही किस्मत हमारी सी लगती है।


नोट पर नंबर देखना सबको भाता है,

बाज़ारो में ख़ामोशी सुनना, क्या किसी को आता है?

सिक्कों के इस झंकार की चाहत,

दुनिया में इक महामारी सी लगती है।


ना संग-ए मरमर के बुतों में,

ना सोने के फूलदानों मे;

बस तुम्हारे कुरेदे ज़ख़्मों की नक्काशी,

बेजोड़ फनकारी सी लगती है।

___________________________

Meanings of words

नफ़सियाती = मानसिक = mental/psychological

फनकारी = कलाकारी= artistry













No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts