आज भी रोज़ वो सपनों में आता है's image
Zyada Poetry ContestLove PoetryValentine's Day1 min read

आज भी रोज़ वो सपनों में आता है

Pooja VashisthPooja Vashisth June 16, 2020
Share1 Bookmarks 107 Reads2 Likes

आज भी रोज़ वो सपनो में आता है।

सुकून तो इस बात का है,

हक़ीक़त में ना सही पर सपनों में,

वो मुझे देख मुस्कुराता है।

कभी नजरे झुकाता है,

कभी नजरे उठाता है।

और फिर एक नज़र में,

हज़ारो लफ्ज़ बयां कर जाता है।

इकरार तो करना चाहता है,

पर ना जाने क्यूं हिचकिचाता है।

और आखिरकार जैसे ही वो करीब आता है,

कमबख्त सपना ही टूट जाता है।।





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts