युवा तथ्य's image
Share0 Bookmarks 59 Reads2 Likes

कई सारी उलझनों में यूँही डूबा है ,

हर चर्चा में जिसने महफ़िल को लूटा है ,

है तैयार कुछ करके दिखाने मौका तो दीजिए,

है संस्कृति ऐसी हाल चाल से पहले प्रणाम लीजिए ,

घर छोड़ दिया घर के लिए कही राम या सीता तो नहीं ,

ढाल थाम लिया अपनों के लिए कही अर्जुन या द्रौपदी तो नहीं,

लड़ते रहते है खुदसे अन्तः मन की लड़ाई है ,

सुख से पहले पेट और घर चलाने की कमाई है ,

खाना न मिला हो पर मेट्रो या बसों के धके खाने है ,

समय का न होना बाकि तंगियों को ढकने के बहाने है ,

चीज़े बहुत सी भटकाने फुसलाने को भी है ,

जिम्मेदारियां खुदको सही रास्ते लाने को है ,

दिक्कते काट कर भी मुस्कुराते जी रहे है ,

सपनो को पूरा करना है इसीलिए तो जी रहे है ,

ऊपर लिखी पंक्तियाँ सभी सत्य है ,

इस देश के युवा वर्ग से सम्बंधित तथ्य है |


- पिंकी झा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts