निंदिया रानी आएगी's image
OtherPoetry2 min read

निंदिया रानी आएगी

pinki jhapinki jha September 2, 2021
Share0 Bookmarks 188 Reads2 Likes

सुबह के नहीं नहीं रात के बजे है चार,

दुनिया के सोने का समय ,

फिर हम क्यों है जगे ,

क्या अलग है इस दुनिया से ,

नहीं है ऐसा तो नहीं ,

काम निपटा कर नींद में खोने ,

आराम से सोने ही तो आये थे ,

फिर नींद उड़ी कैसे ?

किस रास्ते इतनी दूर निकली ?

लेटे आँखे मुंदी ,

दिन बिता कैसे टटोला ,

कल ना ना आज क्या क्या करेंगे सोचा ,

लिस्ट मन में ही लिख डाली ,

फिर इंतज़ार था बस नींद का ,

करवट मैंने बदली संग ख्यालो ने भी ,

गलतिया अपनी सामने दौड़ते दिखी, 

तेज़ी में कुचल देने की भावना से दौड़ते ,

जल्दी करवट बदली मैंने ,

अपनी कोशिशे दिखी मुझे ,

छोटी से बड़ी होते ,

बीज से पेड़ होते ,

मुस्कुराई इठलाई ली जम्हाई ,

मन चल दिया दूसरी ओर ,

किसी ख्याल का अभी न पहरा ,

आँखों में सिर्फ नहीं खुदमे महसूस हो रहा अँधेरा है ,

अनकहे से भाव है ,

चल रहे जैसे नाव है ,

घाट किनारे की परवाह बगैर ,

छानते चलते शहर दर शहर ,

तूफ़ान लिए पर चुपी में ,

मैं बस खामोश इनके बीच ,

इसी इंतज़ार में की शायद ,

सूरज के साथ ही अब ,

निंदिया रानी आएगी |

- पिंकी झा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts